शांति कैसे आएजी ?

शांति  शांति करते है, मगर आती है अशांति,
सिर्फ शांति की चाहत से शांति नहीं आती,
जिवन में शांति का लक्ष्य और
कोशीश हो तो आशकती है शांति ।

आत्मा का असली स्वरुप है शांति,
मन को शांत करने से आती है शांति,
भितर हो शांति तो बहार आएगी शांति ।

कामनाओ की शांति से, मौन से और
सही वाणी-व्यवहार से आएगी शांति ।

प्रेम, दया, करूणा और संतोष,
धैर्य, तितिक्षा, क्षमा और नम्रता,
जैसे सदगुणों से आएगी शांति ।

आयोजन युक्त नियमीतता और
सही जिवनशैली से आएगी शांति ।

खुद पे, ईन्दियो पे और मन पे
हो संयम तो आएगी शांति ।

ईश्र्वर में श्रध्धा, विश्र्वसा और
ईश्र्वर की भक्ति से आएगी शांति,
क्यूंकि ईश्र्वर के चरणों में ही है शांति ।
ईश्वर कृपा से आएगी शांति ।
                                                 विनोद आनंद

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s