वक्त के साथ चलो

वक्त बलवान, नहीं मानव बलवान,
वक्त  है जीवन,  वकत के साथ चलो।

वक्त  की है पुकार, नियमीत बनो ।
वक्त  की माग है, वचनबध बनो ।
वक्त के साथ चलो ।

वक्त का मिजाज समझो,
किमत समझो,
हेमियत समझो,
वक्त  के साथ चलो ।

वक्त का सही उपयोग है,
आशीँवाद वक्तका,
दुरोपयोग है अभिशाप ।
वक्त  के साथ चलो ।

खुदका मिजाज छोडो,
आलसीपन छोडो,
लापरवाही छोडो,
वक्त  हाथसे निकल जायेगा,
पता नही चलेगा ।
वक्त के साथ चलो                         विनोद आनंद

Advertisements

2 thoughts on “वक्त के साथ चलो

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s