भक्ति कैसे होती है ?

भक्ति कैसे होती है ?
भक्ति प्रेम भाव से होती है ।
भक्ति ज्ञान वैराग्यसे होती है ।
भक्ति अनन्य भाव  से होती है ।
भक्ति निष्काम भाव से होती है ।
भक्ति दिल से और मन से होती है ।
भक्ति किसी एक ईष्ट देव की होती है ।
भक्ति श्रध्धा और विश्र्वास से होती है ।
भक्ति मीराबाई, नरसिंह मेहता, सुरदास,
तुलसीदास और जलाराम जैसी होती है ।
श्रवणं,कीर्तनं, स्मरणं, पादसेवनं, वंदनं, अर्चनं,
दास्यं, सांख्यं और आत्मनिवेदम् नवधा भक्ति में से
किसी एक और ज्यादा प्रकार से होती है भक्ति ।
                                                 विनोद आनंद

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s