समस्या

जब तक जिंदगी है समस्या रहेगी ।
समस्या ईम्तहान है जिंदगी में  ।
ईम्तहान में सफळ होना ही है ।
असफळ हुए तो शीख लेनी है और
सफळता के लिए कोशीश करनी है ।

समस्या से न डरो, न भागो, न चिंता करो
स्थिर मन से सोचो की क्यू आई  ? 
क्या करना है ? उसका चिंतन करो
समस्या का हल निकलेगा ।

ईतना ख्याल रखना की तुम्हारी
वाणी,व्यवहार,और वर्तन कि वज़ह से
से समस्या पेदा नही होनी चाहीए ।
अगर हो गई तो माफी माग लेना
ही समस्या का समाधान है ।

समस्या चूनौती है स्वीकार करो
समाधान के लिए और समाधान
न हो तो भी उस का स्वीकार ही
समस्या का समाधान है ।
समस्या पे नही समाधान पे ध्यान दो ।
समस्या ही गुरू है जो शिखाती  है ।

विनोद आनंद                               12/06/2016
फ्रेन्ड, फिलोसोफर, गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s