आदर्श व्यक्ति का निर्माण

​मा-बाप अगर बच्चों कि 

उपस्थिति में जूठ बोले तो

पडेगा बच्चो पर जूठ का संस्कार ।

सावधान हो शकेतो बच्चों के

सामने जूठ न बोले ।

 जूठ बोलने कि आदत छोड़ो ।

मा-बाप अगर बच्चो के

साथ गुस्से से पेश आते है तो

पडेगा बच्चों पर गुस्से का संस्कार ।

सावधान, हो शकेतो बच्चों के साथ

गुस्से से नही शांति से पेश आए ।

मा-बाप अगर बच्चो कि 

सामने किसी का अपमान करे तोे

पडेगा बच्चों पर अपमान का संस्कार ।

सावधान, हो शकेतो बच्चों के सामने

किसी का अपमान नही सन्मान करो ।

  मा-बाप अगर बच्चो कि 

सामने किसी कि निंदा करे तो ।

पडेगा बच्चों पर निंदा का संस्कार ।

सावधान, हो शकेतो बच्चों के सामने

किसी कि निंदा नही प्रसंशा करो ।

मा-बाप अगर बच्चो कि 

सामने किसी कि चूगली करे तो ।

पडेगा बच्चों पर चूगली का संस्कार ।

सावधान, हो शकेतो बच्चों के सामने

किसी कि चूगली नही करो ।

मा-बाप अगर बच्चों के सामने 

एक दूसरे कि खामियाँ निकालोगे तो पडेगा 

बच्चों पर खामियाँ देखने का संस्कार ।

सावधान, हो शकेतो बच्चों के सामने

एक दूसरे खुबीयाँ निकालो ।

मा बाप कि  जिम्मेदारी है बच्चों को 

अच्छा संस्कार देने कि लेकिन ।

आपके गलत व्यवहार, आदतों से 

पडेगा उन पर ऐसा ही संस्कार ।

आपके बच्चे आपकी डूपलिकेट है

उन में आपके संस्कार होते है

और आप उनके सामने गलत

व्यवहार करने से वो द्दढ होते है ।

मुनासित है कि बच्चो के सामने

अच्छा व्यवहार करे तो बच्चे को

अच्छे संस्कारो का सिंचन होगा ।

उसे भी ज्यादा मुनासित तब हो

जबक आप सांसारी जीवन की

शुरूआत करने से पहेले अपने

दुर्गोणो, गलत व्यवहार, और

खराब आदतों से मुक्त हो जाए ।

अपने व्यक्तित्व को निखारे ।

एक  आदर्श व्यक्ति ही एक आदर्श 

व्यक्ति का निर्माण कर शकता है ।

मा बाप को भगवान कहा है 

क्यूकि उनका काम अच्छा सर्जन

और निर्माण करना है ।

विनोद आनंद                          21/08/2016        फ्रेन्ड, फिलोसोफर, गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s