किस का कल्याण किस में 

​आत्मा का कल्याण परमात्माना 

साक्षात्कार और मोक्ष में ।

मन का कल्याण मन के संयम में ।

बुध्धि का कल्याण सही निर्णय में ।

शरीर का कल्याण तन्दुरस्ती में ।

मानव का कल्याण आत्मा कल्याण में ।

परिवार का कल्याण सुख शांति मे ।

संबंधीओ का कल्याण रिश्ते निभाने में ।

समाज का कल्याण सब के कल्याण में ।

देश का कल्याण देश कि समृध्धि, 

और देशवासीओं कि खुसाली में ।

विश्व का कल्याण विश्व शांति में ।

जिस का जिस में हो कल्याण

हे ईश्वर उसे उसका ही दो वरदान 

चलो यही प्रर्थना करे तो, 

‘ वसुध्धेव कुटुंम्बकम्, 

का स्वप्न हो सिध्ध ।

विनोद आनंद                               27/08/2016   फ्रेन्ड, फिलोसोफर, गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s