गृहलक्ष्मी

गृहलक्ष्मी,लक्ष्मी कमाने गृह 

बहार निकले तो सुरक्षा कहाँ ?

नारायण-पति की सेवा छोड के

अन्य सेवा में जीवन खर्च करे,तो’

स्वधर्म,कर्तव्य में बाधा आएगी,

बाधा से संबंधो में तनाव, क्लेश,

अनबन और दुःखी होना,

क्या मुनासीत है ।

गृहलक्ष्मी गृह काम-परिवार कि

सेवा समर्पण करे तो सुरक्षीत,

स्वधर्म कर्तव्य का पालन तो

न कोई बाधा । लक्ष्मी नारायण

और सदस्य रहे प्रसन्न और घर

में सुख शांति, खुसखुसाल रहे ।

जिसे संसार में हलचल, छूटाछेडा

कि नौबत आए वो कार्य करना

मूर्खता कि निशानी है ।

गृहलक्ष्मी घर में  ही घर को

सजाने और सँवारने काम सँभाले

तो आदर्श परिवार,समाज बनेगा ।

अपनो कि सेवा छोड के दूसरों कि

गुलामी चंद पैसो के लिए क्या है

मुनासीत है कि पैसों के साथ

मुश्केलीयाँ, परेशानीयाँ खरीदे ।

समजदार को ईसारा काफी है ।

विनोद आनंद                            29/10/2016      फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s