पहेचान

​जुल्म करने वाला 

जुल्मी कहलाता है  ।

प्रेम करने वाला 

प्रेमी कहलाता है  ।

व्यापर करने वाला

व्यापरी कहलाता है  ।

दुष्ट कर्म करने वाला

दुष्ट कहेलाता है ।

सत्कर्म करने वाला 

संत सहेलाता है ।

गुस्सा करने वाला

एंगरी मेन कहेलाता है

शांत साधु कहेलेता  है ।

तुम्हे क्या बनना है

तुम्हे करना है तय ।

वोही होगी तुम्हारी  पहेचान । 

अच्छी पहेचान बनाना

अच्छा व्यक्तित्व बनाना

जिंदगी का उद्देश्य हो,तो 

आदर्श व्यक्ति बन शकते है ।

विनोद आनंद                              09/11/2016     फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s