दिल करता है ।

​जो हमे याद करे और 

मिलने की चेष्ठा करे 

उसे मिल ने का दिल

करता है ।

जो मुश्केलियों में पास

रहे और साथ रहे उसे 

मिल ने का दिल

करता है ।

जिसे मिल के खुसी हो, 

दिल को चैन और मन को 

शुकून मिले उसे मिलने को 

दिल करता है ।

बहोत दिनो से बिछडे

अपनों  से मिल ने को 

दिल करता है ।

जिसे हम प्यार करते है

उस की जुदाई  सताये, 

तो उसे मिलने दिल 

करता है ।

कोई न कोई बजह से हमे

मिलने का दिल करता है ।

और हमे खुसी,चैन और 

शुकून मिलता है ।

मिलन जिंदगी है और 

जुदाई है जीने का सहरा ।

विनोद आनंद                          12/11/2016

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s