शेर शायरीयों का गुलदस्ता -21

​☺ उतर जाना

घर में तो सभी रहते है

लेकिन घरमें रहने वालों के

दिल में कम रहते है ।

किसी के दिल में उतर जाना, 

मगर दिल से न उतर जाना ।

☺मन कि बात

मन कि बात सभी मानते है

लेकिन मन कि बात कम लोग

नही मानते है । ईसलिए कम सफल

होते है ।

☺ मुश्किल-आसान

पहेचानना दूसरो को है आसान

 है मुश्केल खूद को पहेचानना ।

मगर है मुश्केल सुधरना दूसरों को 

है आसान खूद को सुधारना ।

सुधारसे हो जाएगी जिंदगी आसान ।

☺ मिलजुल-लडते झगडते

मिलजुल के रहेना है कठीन

मगर मुहावरा हो गया तो 

जिंदगी हो जाए आसान ।

लडते झगडते रहनेसे 

हो जाए जिंदगी कठीन ।

☺ क्या करे ? 

मिलते है तो मुश्कराते है

मगर मन में है कुछ ओर 

क्या करे हम ? 

कहते कुछ ओर, 

करते है कुछ ओर 

क्या करे हम ? 

समजमें नही आता ।

विनोद आनंद                            08/12/2016        फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

 
  

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s