बेवज़ह

​बेवज़ह गुस्सा करना 

अपमान का बुलावा है, 

और बेवज़ह खुदका 

अपमान करवाना है ।

बीना कारण गुस्सा

बाहादूरी नहीं कमजोरी है ।

बेवज़ह जूठ बोलना 

सत्य का अपमान है, 

और बेवज़ह खुदकी 

किमत कम करवाना है ।

बीना कारण झूठ बोलना

जित नहीं हार है ।

बेवज़ह झगडा करना

बरबादी का बुलावा है, 

और बेवज़ह खुदकी 

बदनामी करवाना है ।

बीना कारण झगडा

बाहादूरी नहीं कमजोरी है ।

बेवज़ह नफरत करना

प्यार का अपमान है, 

और बेवज़ह खुदका

दिल जलाना है ।

बीना कारण नफरत

कमजोरी है शक्ति नही ।

बेवज़ह कुछ भी करना

अकलमंदी नही मूर्खता है । 

विनोद आनंद                             18/12/201           फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s