भरोसा करे तो किस का ? 

​भरोसा करे तो किस का करे ? 

पहेले भरोसा खुद पे करे

खुद भरोसे के लायक बने

अपनो का भरोसा जीतना 

और अपनो पे भरोसा करना

लेकिन आंख खोल के, 

सतर्क और जागृत रहके ।

भरोसा करके चैन कि निंद न सोना ।

भरोसा कर लिया जिस पर

उसीने ही दिया है धोका यह

दुनिया का है दस्तूर याद रखना ।

दस्तूर, दास्तान न बने,सावधान ।

जिंदगी में भरोसेमंद बने 

भरोसा का इस्तमाल करेके

धोखेबाज न बने ।

एक बार उठ गया भरोसा

तो भी सब कुछ लूट जाएगा ।

फिर भरोसा जीत नही सकते ।

भरोसा रिश्तो कि नींव  है ।

विनोद आनंद                              28/12/2016     फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s