कल आज और कल

​कल था आज है 

और कल होगा । 

कल गया, आज है और

कल आएगा ।

कल से आज बहेतर है तो

कल ओर बहेतर होगा ।

कल को भूलजाओ, 

आज को सँवारो तो

कल सँवर जाएगा ।

भूत बेजान है, 

वर्तमान जान है, 

भविष्य शान है ।

भूत से परेशान 

वर्तमान या भविष्य 

न बिगडे सावधान ।

वर्तमान जननी है, 

भविष्य कि ।

वर्तमान मां जीओ,  

भाग्य चमकाओ । 

विनोद आनंद                              17/01/2017        फ्रेन्ड, फिलोसोफर,गाईड 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s