कभी सोचो,,,, 

​कभी सोचो कही मैं

अपनी जिम्मदारी 

अच्छी तरह निभाता हूँ

या बेजिम्मदार हूँ ।

कभी सोचो कही मैं

अपनों से वफादा हूँ, 

या बेवफाई करता हूँ । 

कभी सोचो कही मैं

अपनों से प्रेम करता हूँ, 

या नफरत करता हूँ । 

कभी सोचो मैं दोस्तो से 

दोस्ती निभाता हूँ, 

या दुश्मनी रखता हूँ । 

कभी सोचो कही मैं

दूसरों के साथ सही

व्यवहार करता हूँ, या 

गलत  व्यवहार करता हूँ ।

कभी सोचो कही मुझे

प्राणी मात्र पर रहेम है

या बेरहेम हो गया  हूँ ।

कभी सोचो कही मैं

घर मे मर्यादा का 

पालन करता हूँ 

या नही करता हूँ ।

कभी सोचो कही मैं

मैं ईमानदार हूँ, या 

बेईमानी करता हूँ । 

आप का जवाब सही है 

तो आप ईन्सान हो

वरना ईन्सानके बेस में

कुछ ओर हो ।

विनोद आनंद                              20/01/2017    फ्रेन्ड, फिलोसोफर,गाईड 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s