669 जागो और जगाओ

खुदको जगाओ और 

दूसरों को भी जगाओ ।

जागना है निंद से समयसर

वरना देरी हो, जाएगी बैरी, 

ईसलिए जागो और जगाओ

जागना है मन को 

जो है भोग विलास में 

वरना जिंदगी बीत जाएगी

न कुछ कर शकोगे ।

ईसलिए जागो और जगाओ

जगाना है भावनाओ को

दिल में वरना भावनाहीन

जीवन है जानवर समान ।

ईसलिए जागो और जगाओ

जगाना है अच्छे विचारों को

वरना नही  रोक पाओगे

बुराईओ को ईसलिए 

जागो और जगाओ ।

जगाओ आत्मा को

आत्मशक्ति को वरना

होगी आत्मगानी ।

ईसलिए जागो और जगाओ ।

विनोद आनंद                          16/02/2016      फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s