682 प्रतिबंध

प्रतिबंध किसी चीज़ के 

ईस्तमाल पर हो वो चीज़

बाजार में नहीं मिलती ।

लोक कल्याण कि खातरी

किसी चीज़ पर प्रतिबंध 

लगाया जाता है ।

उदाहर के तोर पे दारु पर 

गुजरात में प्रतिबंध है ।

जिसे दारु के प्रकोप से 

गुजरात कि प्रजा बच शके ।

लेकिन सिर्फ गुजरात में क्यूं ? 

किसी दूसरे राज्यमें क्यूं नही ? 

प्रतिबंध हो तो पूरे भारत में हो ।

जिस राज्यमे नही प्रतिबंध वहाँ से

दारू अधिक किंमत में आती है ।

प्रतिबंध करना है तो पीने पर 

और बीकने पर नही लेकिन 

प्रतिबंध दारू के उत्पाद पर 

हो तो प्रतिबंध सफल हो जाए ।

प्रतिबंध  प्रशासन का हो न हो

लेकिन व्यक्ति खुद पर प्रतिबंध

लगाना है कि जो हानीकार है

उसका सेवन करके व्यसनी न बने ।

व्यक्ति खुद और मन पर संयम रखे

वोही सही और सफल प्रतिबंध है ।

ईश्र्वरने व्यक्ति को मन बुध्धि दि है

कि वो समज शके क्या गलत है ? 

क्या सही है ? क्या हानीकारक ? 

और लाभदायी  है ?  फिर भी 

जानबुझ व्यक्ति गलती करके

हानी कारक को अपना कर व्यसनी 

बने तो प्रतिबंध सफल न हो शके ।

विनोद आनंद                           01/03/2017 फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s