732 रिश्तें को निभाए कैसे ? 

क्या क्या करना है 

रिश्तें निभाने के लिए ? 

रिश्तों कि जरूरत,किंमत 

और हेमीयत समजनी है ।

रिश्तों कि मान मर्यादा 

का करना है जतन और

समजनी है जिम्मेदारी अपनी ।

रिश्तेंदारों से मधुर, मीठी 

और नम्र बोलनी है वाणी ।

दु:खोंमें साथ निभाना है ।

रिश्तों में बरदास्त करना है ।

रिश्तों के लिए बूरी आदतें 

और व्यसनो को छोडना है ।

रिश्तों में एक दूजे का 

ख्याल रखना है और सेवा 

समर्पण का भाव रखना है ।

रिश्तों में दूसरों के कर्तव्य को

अपना अधिकार नही समजना ।

रिश्तों में  अपेक्षा नही रखना ।

रिश्तें प्रेम-स्नेह से पलते है ।

नहीं के,द्वेष, ईर्षा और निंदा से।

रिश्तों से परिवार बनता है

परिवार से संस्कार बनता है

और संस्कार से जीवन बनता है ।   

विनोद आनंद                              08/04/2017   फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s