759 अनुभव करना आवश्यक है

सिर्फ एक बार अपनी गलति से 

पडदा हटा के तो देखो, 

गलति का एहसास करके तो 

देखो, कैसा गलता है  ? 

गलति स्वीकार करके

माफी मागके तो देखो 

कैसा लगता है ? 

अनुभव सिर्फ एक बार

करना आवश्यक है ।

सिर्फ एक बार किसी कि

गलति को माफ करके देखो

उसे उसकी गलति का एहेसास

कराके तो देखो कैसा लगता है ? 

फिर गलति न करे एसा 

बचन दिलाकर तो देखो 

कैसा कमाल हो शकता है ।

अनुभव सिर्फ एक बार

करना आवश्यक है ।

सिर्फ एक बार किसी के

गम का बोज उठाकर तो देखो

खुद के गमों का बोज कम हो जाए, 

मिलेगी दुआए और खुशीयाँ  ।

अनुभव सिर्फ एक बार

करना आवश्यक है । 

सिर्फ एक बार किसी को खुश

करके या अपनी खुशी बाँट कर तो 

देखो कितनी बढ जाती है ।

अनुभव सिर्फ एक बार

करना आवश्यक है । 

फिर अनुभव गुरू बनकर 

तुम्हे सही राह दिखाएगा ।

विनोद आनंद                               29/04/2017   फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s