769 अभिनय

ईन्सान अभिमान का पूतला, 

ईन्द्रियो के विषयो का भोगी ।

वासना-कामना का कामदेव ।

ईन्सान दंभ का दानव, 

बूरे स्वभाव-आदतों का गुलाम

लोभ लालच का शिकार ।

ईन्सान पैसा का पूजारी, 

छल कपट में माहिर 

मोह-ममता के नसे में 

दुर्गुणो-गुनाहों का देवता ।

इन्सान सब अभिनय करता है

ईन्सान का अभिनय नही करता ।

कोई गुरू या ईश्वर कृपा से

ईन्सानियत का पाठ शीख के

ईन्सान का अभिनय कर शकता है 

दुर्गुणो-दुराचार करता है

सद् गुणो-सद् आचरण नही 

करता ईसलिए ईन्सान का

अभिनय नही कर शकता ।

ईन्सान बस ईन्सान बने तो

जीवन सार्थक हो जाएगा ।                                    विनोद आनंद                                  09/05/2017   फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s