786 शेर शायरीयों का गुलदस्ता-28

💟 तस्वीर 

तस्वीर खिचाते वक्त मुस्कराते है

तस्वीर सुंदर आती है ।

हर पल कई आंखे तस्वीर खिचती

मुस्कारे रहे तस्वीर अच्छी आयेगी ।

💞 व्यक्तित्व

तस्वीर में तो अच्छे लगते हो, 

लेकिन व्यक्तित्व का क्या ? 

तस्वीर से और मिल के 

मुश्किल है अंदाज लगाना ।

पता कर शकते व्यक्तित्व का

अवलोकन या अनुभव से ।

संबंध या दोस्ती करना 

व्यक्तित्व जानने के बाद ।

💝 अतः चक्क्षु 

तन कि तस्वीर 

खिंचने के केमेरा है  ।

मन कि तस्वीर किस 

केमेरा से खिंचो गे ।

जो कुछ  है वो

छूपा है मन में ।

अतः चक्क्षु से

जान शकते हो 

मन का हाल ।

आंसू

आंसू मगर मच्छ के

दु:ख के, खुशी के, 

और जूदाई के, या

हो पश्र्चाताप के

बेखबर है आंसू ।

आंसू बहा के नहीं 

दिखाना है, वो तो सह के

पी जाना  है, 

क्यूँ कि नही है कोई 

आंसू पोंछ ने वाला ।                                             

विनोद आनंद                               17/05/2017 फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

2 thoughts on “786 शेर शायरीयों का गुलदस्ता-28

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s