830 ठीक नहीं है

हसना बुरी बात नहीं, 

किसी कि हँसी उडाना ठीक नही ।

मजाक करना बुरी बात नहीं, 

किसी कि मजाक उडाना ठीक नहीं ।

गलती हो जाए बूरी बात नहीं, 

गलती कि माफि न मागना, 

गलतियाँ करते रहेने ठीन नहीं ।

गिरना बुरी बात नहीं,   

गिर के नही उठना ठीक नहीं ।

जरूरी गुस्सा करना बूरी बात नहीं, 

बीन जरूरी गुस्सा करना ठीक नहीं ।

कभी कभी बीना सोचे बोलना बुरी नहीं, 

हर वक्त बीना सोचे बोलना ठीक नहीं ।

कभी बहार खाना बुरी बात नहीं है, 

बार बार बहार खाना ठीक है ।

जल्दबाजी करना कोई बात नही, 

लेकिन जल्दबाजी में नुकशान 

और घाटा हो ठीक नही ।

बात बीगडे कोई बात नही, 

बात बिगडती जाए वो ठीक नही ।

किस कि जान बचाने 

झूठ बोलना बूरी बात नही, 

गलती छूपा कर झूठ ₹

बोलना ठीक नहीं, जो ठीक है वो ही 

करने कि चेष्टा करो,वरना भूल जावो ।

विनोद आनंद                                02/07/2017    फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s