851 वो तो सिर्फ चाहते है…. 

नहीं चाहते हीरा मोती

नहीं चाहते बंगला गाडी

वो तो सिर्फ चाहते है 

दो टंक भोजन और स्वमान ।

नहीं चाहते ऐसो आराम 

नही चाहते खुस सगवड

वो तो सिर्फ चाहते है 

तुम्हारे होठे पे हसी 

और जीवन में खुशी ।

नहीं चाहते नफरत 

नहीं चाहते अवगणना 

वो तो सिर्फ चाहते है 

प्रेम के दो मीठे बोल 

और तुम्हारा साथ ।

नहीं चाहते क्लेश   

नहीं चाहते अशांति

वो तो सिर्फ चाहते है 

सुख शांति और चैन ।

वो चाहते है तुम्हे

वो चाहते है सब को

वो तो भी चाहते 

थोडा वक्त तुम्हारा 

अगर तुम दे शको तो

मिलेगा आशीर्वाद,

ईश्रवर कृपा और

शुभकामनाएँ  ।

अगर तुम चेहतो हो

यह सब मिले संतान से

देना शीखो मा बाप को ।
विनोद आनंद                                16/07/2017    फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s