988 कोशिश

हम परेशान क्यू होते है ?

कभी सोचा है ? सोचोगे तो

परेशान नही होंगे ।

हम मुश्केलियों के डर से

गभराकर परेशान होते है ।

हम मुशकेलियों को हम से

ज्यादा ताकावान मानते है ।

मुश्केलियों में चिंता करके

तनाव में आ जाते है ।

लेकिन उस के हल के

लिए चिंतन नही करते और

परेशान होते रहते है ।

मुश्केलियाँ क्यू आती है ?

उस के बारे में भी सोचो ।

मुश्केलियाँ कम होगी तो

परेशान कम होंगे ।

मुश्केलियाँ, अस्तव्यस्थ

अशिस्त जीवनशैली और

अपने बूरे स्वभाव और

बूरी आदतों से आती है ।

बस मुश्केलियाँ का कारण

मीटा दो तो मुश्केलियाँ कम

हो जाएगी और परेशान

नही होना पडेगा ।

मुश्केलियाँ को मीटाना

को मुशकेल काम नही है ।

कोशीश कामियाबी दिलाएगी ।

विनोद आनंद 30/11/2017 फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s