1014 चलना तो चाहीए

चलना तो चाहीए क्यूँकि

चलना ही उत्तम कसरत है ।

शरीर के सभी अंगो को 

मिलती है कसरत और

आती है  शरीर में स्फूर्ती ।

ईसलिए चलना तो चाहिए ।

बैठे रहनेशे मनुष्य आलशी

और शरीर मोटा हो जाता है ।

चलते चलते कई लोगों से,

मिलना और पहेचान होती है ।

चलने से शरीर कि रोग 

प्रतिकारक शक्ति, बढती है 

और बीमारी कम होती है ।

ईसलिए चलना तो चाहिए ।

सुबह के स्वच्छ-शांत माहोल में

चलने से शरीर को शुध्ध हवा,

और मन को शांति मिलती है ।

जीवन में चलने कि आदत होनी 

चाहीए तो शरीर स्वस्थ रहेगा ।

ईसलिए चलना तो चाहिए ।

विनोद आनंद                              23/12/2017       फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s