1567 सुखो का त्रिवेणी संगम

सब से पहेला सुख किस में है ?
वो न हो तो सभी सुख है बेकार ।
पहेला सुख स्वस्थ शरीर में है ।
संकल्प करो स्वस्थ शरीर का ।
प्राथमिकता दो, प्रयास करो ।
सब से बडा सुख कौनसा है ?
वो न हो तो सभी खुस है बेकार ।
सब से बडा सुख है परिवारिक ।
संकल्प करो परिवारिक सुख का ।
कामना, प्रार्थना और प्रयास करो ।
सब से जरूरी सुख कौनसा है ?
सबसे जरूरी सुख भोजन है ।
संकल्प करो,परिश्रम करो पाने का ।
यह तीनों सुख के बाद सब सुख है
वो बीन जरूरी, बाद में समय हो तो
कामना करके करो प्रयास मिले तो
खुश होना,न मिले तो दुःखी न होना ।
बीनजरूरी सुखको प्राथमिकता मत
दो, वरना जरूरी सुख छूट जाएगें ।
शरीर स्वास्थ्य, परिवारिक और
भोजन का सुख है त्रिवेणी संगम ।
जिसे तीनों मिले वो है खुसनसीब ।
विनोद आनंद 14/04/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s