1783 कही सुनी बातें

* दो तरह के व्यक्ति से दूर रहेना
बीझी व्यक्ति जो अपनी मरजी से बात
करेगा और घमंडी जो सिर्फ मतलब से
बात करेगा ।
* जिंदगी आसान नहि होती,आसान
बनानी पडती है, कुछ अंदाज से तो
कुछ नज़रअंदाज से ।
* पिता कि दौलत का क्या धमंड करना,
मजा तो तब है जब दौलत अपनी हो
और धमंड पिता का हो ।
* सफल नहि होने के बहाने मत बनाईए
आप के पास भी 24 घंटे होते है जो
सफल व्यक्ति के पास होते है ।
* अगर आप शूकुन चाहते हो तो लोगों
कि बातें दिल से लगाना छोड दो ।
* जिदगी रूकने का नहि आगे बढने का
नाम है, बदल ने के लिए लडना पडता
और आसान करने के लिए समझना
पडता है ।
* शुक्रगुजार होना भी एक आदत है
उस कि आदत डालनी पडेगी ।
* भरोसा खुदा पे है तो वो मिलेगा
जो किस्मत में लिखा है मगर
भरोसा खुद पे हो तो खुदा वो हि
लिखेगा जो आप चाहते हो ।
* भरोसा खुद पे रखो तो ताकात
बन जाती है भरोसा दूसरों पे रखो
तो कमजोरी बन जाती है ।
विनोद आनंद 10/11/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1781 बारह समझ

ईश्र्वर कृपा से सत्संग
सत्संग से ज्ञान,ज्ञान से समझ
समझ से सुधार,सुधार से सफलता
सफलता से प्रसिध्धि ।
जीवन में कुछ आवश्यक समझ हो तो
जीवन बने सुंदर,आसन और समृध्ध ।
समझ-1: जैसा व्यवहार आप दूसरों
से चाहते हो,एसा व्यवहार दूसरों से करें ।
समझ-2 : दूसरों में अच्छाई-खुबीयाँ देखना ।
समझ-3 : दूसरों कि गलती को माफ करना
और खुद कि गलती कि माफि मागना ।
समझ-4 : खुद को सुधारना, दूसरों को नहि ।
समझ-5 : कर्म के फल कि और दूसरों से
अपेक्षा मत रखना ।
समझ-6 हर हाल में मुस्कराना और खुस
रहेना शीखना ।
समझ-7 वक्त कि किंमत समझने और वक्त
के साथ चलना, समय का सदोपयोग करना।
समझ-8 जीवन में सकारात्मक सोचो और
आशावादी बनना ।
समझ-9 काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद, ईर्षा
जैसे कसाई ओ से बचना ।
समझ-10 प्रेम, दया, करूणा, शांति जैसे
सद् गुणों से दोस्ती करना ।
समझ-11 किसी कि प्रसंशा, आभार करना ।
समझ-12 समझ को जीवन में आत्मसात करना ।
बारह समझ जीवन में आ जाए तो जिंदगी
सुंदर, आसन, सफल और समृध्ध बनेगी ।
विनोद आनंद 08/11/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1779 आँसू

* आँसूओ से अपने भी पराये
हो जाते है और मुस्कान से
पराये भी अपने हो जाते है ।
* आँसूओ को गुरू या ईश्र्वर के
सिवा किसे के आगे न बहान
क्यूँकि तुम्हारे आँसू कि किसी
को कदर नहि होती ।
* आँसू बहाने बाले,तुने आँसू कि
किंमत न समझी, जिंदगी को
समझा होता तो आँसू बहाने
कि जरूरत नहि पडती ।
* तुम्हे आँसू बहाने कि जरूरत
नहि पडेगी जब आप किसी के
आँसू पोछोगे तो ।
* आँसूओ से दोस्ती अच्छी नहि
दुश्मनी रखने से आँखोंसे आँसू
निकल नहि पाएँगे ।
* आँसू बहाने वाले तुझे मालूम नहि
वो बहाने के लिए नहि है आँसू
पीने के लिए होते है ।
* आँसू ईतना न बहाओ कि जिंदगी
डूब जाए,साँस लेना कठीन हो जाए
* किसी के आँसूओ पे न जाने,जरा
सोचो समझ कर विश्र्वास करना,
क्यूँकि, वो मगर के आँसू हो तो ।
* दुःख में आँसू बहा लिया तो बोज
हलका हो जाता है, दुःख को याद
करके आँसू बहाते रहोगे तो दुःख
कम नहि होगा ।
विनोद आनंद 05/11/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1771 गीफ्ट जिंदगी को दो

कभी आपने अपने आप
को कोई गीफ्ट दिया है ।
जिंदगी ईश्र्वर कि गीफ्ट है ।
हमे जिंदगी को सुख शाति,
आनंद और अच्छे स्वास्थ
कि गीफ्ट देनी पडेगी ।
जिंदगी तुम्हारे कर्मो कि
रीर्टन गीफ्ट है । जिंदगी को
10 आसान गीफ्ट देना है ।
* करसत या चलने कि आदत से
अच्छे आरोग्य कि गीफ्ट ।
* दिन में अच्छे हेल्थी ब्रेकफास्ट,
लंच,और डीनर नियत समय से
अच्छे स्वास्थ कि गीफ्ट ।
* शरीर को दिन भर पानी कि
आवश्यकता है जब प्यास लगे
पानी पी लिजीए आलस न करो ।
पानी बैठ के पीना ।
* काम के बीच 15 मिनिट मन
पसंद गाना या गप्पे लडाओ जिसे
मन खुस और फ्रेश हो जाए ।
* किसी भी बात कि अति न करे
क्यूँकि अति सर्वत्र व्रजेत ।
* सकारात्मक सोच और बातों
का किंमती गीफ्ट दो जिंदगी को ।
* निरधारित समय पे 6 से 7 घंटे
कि निंद लेना, न कम न ज्यादा ।
* ईश्र्वर कि प्रार्थना और पूजा
श्रध्धा और विश्र्वास से करे ।
* ध्यान, प्राणायाम, मेडीटेसन
को भी समय देना ।
नये साल में यह सब 10 गीफ्ट
जिंदगी को दोगे तो तन, मन
स्वस्थ रहेगा, तो सुख, शांति,
और नया जीवन पाओगे ।
विनोद आनंद 26/10/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1746 शेर शायरीयों का गुलदस्ता-91

🌻 वर्तमान को न बीगाडो
कल गया वो भूतकाल
उस को भूला देना,अगर
वर्तमान में जीना है तो ।
कल आएगा वो भविष्य,
उस कि चिंता वर्तमान में
करे के वर्तमान न बीगाडो ।
हसी खुसी वर्तमान में है,
जीना है वर्तमान में, उसे
भूतकाल और भविष्य के
नाम करके वर्तमान को
भूतकाल न बनाओ, वर्तमान
बीगाड के भविष्य न बीगाडो ।
🌹 दौलत
दौलत है जरूरी मगर सब कछ
नही क्यूँ कि अगर कई चीजे
दौलत खरिद शकती है तो कई
चीजे एसी भी है जो दौलत नहि
खरिद शकती है । दौलत जरूरत
से ज्यादा महत्त्व न देना । अपने
परिवार और संबंधो को ज्यादा
महत्त्व दो तो होगा जीवन सफल ।
🍁 काबिल
स्कूल, कोलेज कि कितनी भी
परीक्षा देकर अब जीने के
काबिल बन गए है, मगर क्या
जिंदगी कि परीक्षा में ऊत्तिर्ण
होकर जिंदगी को जीत पाए हो ।
जिंदगी को जीत कर जीना है
हार के नहि । वि फोर विक्टरी ।
विनोद आनंद 04/10/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1713 कही सुनी बातें-3

* आप क्या हो, आप कहाँ हो,
आप के पास क्या है ईसे कुछ
फर्क नहि पडता । आप क्या
बनना चाहते हो कहाँ पहोंचना
चाहते है, क्या पाना चाहते हो
यह जानना बहुत जरूरी है ।
* जिंदगी में डर और एक्न दोनों में
से चुनाव करना है, तो क्या चुनोगे ?
जो चुनोगे वो मजबूत होगा ।
एक्नको चुनोगे, कामियाब मिलेगी ।
* आप कि हिंमत को यह न कहो
कि आप कि कमजोरीयाँ कितनी है,
कमजोरीयों को यह बताईए कि आप
कि हिंमत कितनी है ।
* खुद को ईतना काबील बना दो
कि सफलाता तुम्हारा ख्वाब देखे
तुम्हे पाने का ।
* अपनी सोच को ईतनी उची करदो
कि आसमान ख्वाब देखे तुम्हारी
सोच को पाने का ।
* अपनी महेनत में ईतना दम भरदो कि
किस्मत ख्वाब देखे तुम्हे पाने का ।
* अपने स्वप्नो में ईतनी जान भरदो कि
डर को भी डर लगे तुमसे टकराने का ।
* स्किल, एबीलीटी के अनुसार स्वप्न
नहि देखो, पहेले बडे स्वप्न देखो फिर
स्किल, एबीलीटी बढाना ।
* खुद पे विश्र्वास रखो और बीलीव करो ।
विनोद आनंद 01/09/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1705 ईज्जत कैसे पाओगे

ईज्जत हि ईन्सान कि
वो दौलत है जो जिंदगी में
सुख, शांति, चैन देती है ।
सभी हमारी ईज्जत करे
सबके दिल में हमे बसना
है तो हमे अपना व्यक्तित्व
निखारना है ।
कुछ बातों पे ध्यान देना है ।
* हमे खुद अपना स्वमान
रखना शीखना है । हम अपनी
गलत आदतें, व्यवहार, और
स्वभाव को बदलना होगा,
तो कोई हमारा अपमान नहि
करेगा लेकिन ईज्जत करेंगे ।
* हमे अपने आपको सब के
सामने अच्छी तरह से पेश
आना है । हमे अपने पहेरवेश
बातचीत,अभिनय और अपनी
अभिव्यक्ति को सुधारना है ।
तब सब हमारी ईज्जत करेंगे ।
* हमे बडा सपना देखना है
और उसे पाप्त करना है, तो
सब कि नजरों में हमारी
ईज्जत बढ जाएगी ।
* जिंदगी में हमेंशा ज्ञान
प्राप्त करना है, कुछ नया
शीख कर कुछ नया काम
करते रहेना है, तो सब कि
नजरों में ईज्जत बढ जाएगी ।
* आप सहि तरीके से बातचीत
करने कि कला शीखनी है तब
सब के दिलो पे राज़ करेंगे और
सब हमारी ईज्जत करेंगे ।
ईज्जत नहिं तो कुछ भी नहि
ईज्जत गई तो सब कुछ गया ।
इसलिए जीवन एसा जीओ कि
हमारी ईज्जत बढे कम न हो ।
विनोद आनंद 22/08/2019 फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड