1776 समझ कि समझ

अच्छी जिंदगी के लिए सिर्फ
समझ हि काफि है,बात समझ
में आजाए तो समझने का कुछ
बाकी नहि रहेता ।
गलती का कारण नासमझी, तो
वो समझ से सुधार शकते है ।
नासमझ अज्ञानसे है, तो ज्ञान
से नासमझ मीट शकती है ।
नासमझ ज्ञान से न मिटे वो
नासमझ नहि, वो अहंकार है ।
समझ कर देती है जो करने
योग्य है, न करने दे जो करने
योग्य नहि है । समझ क्या है ?
कहते है जिसे समझ में आगया
वो समझ नहि जिससे परिवर्तन
या क्रांति घटित नहि होती है,वो
समझ नहि है,भ्रम है समझ का ।
वो समझ सिर्फ मन कि उपरी या
जागृत मन या बुध्धिका हिस्सा है ।
जो समझ से क्रांति घटित होती है,
वो समझ भीतर या अवचेतन मन
से आती है वो समझ असली है ।
जो भीतर कि समझ है वो बहार
अभिव्यक्त होती है, वो संस्कार है ।
बुध्धि स्तर कि समझ तर्कयुक्त या
भौतिक है, वो आंतरिक-आत्मिक
नहि, आपके प्राणो तक नहि जाती ।
भीतर कि समझ हि क्रांति लाती है ।
विनोद आनंद 03/11/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1734 मन,बुध्धि और तुम

मन तुम्हरी मुठ्ठी में तो जिंदगी
जिंगा लाला क्यूँकि मन है गुलाम ।
जब तुम मन कि मुठ्ठीमें तो जिंदगी
बेलगाम क्यूँकि तुम गुलाम मन का ।
मन ईन्दियो का, तुम मन का गुलाम
तो तुम गुन्हेगार और जिंदगी केद
खाना क्यूँकि मन सहि या गलत
नहि सोचता, वो बुध्धि ज्ञान से
मसहरा नहि करता, न सुनता है,
वो मन मानी करता है, ईन्दियो कि
ईच्छा और ख्वाईस पूर्ण करता है ।
मन परिणाम, परिस्थिति कि फ्रिक
नहि करता, बीना सोचे वो बोलता है
कर्म करता है,फिर पस्तावा करता है ।
बाद में क्या जब चिडीया चुग गई खेत,
सब कुछ लुटा के होशमें आए तो क्या ?
हमे मन को बुध्धि और ज्ञान से जूड
कर गलत कर्मो से बचना है ईन्दियों
और मन का गढबंधन तोडना है ।
मन को निर्णय नहि लेना है तुम्हे
बुध्धि-ज्ञान से सहि निर्णय लेना है ।
मन को जीतना है और मन पर काबू
पा के उसे गुलाम बनाना है मतलब
मन को अपनी मुठ्ठी मे रखना है ।
मन मानी करने से रोकना है, तो वो
तुम्हार दोस्त बन के सहि रास्ता
दिखाएगा, वरना दुश्मन बनकर गलत
रास्ते पे ले जाएगा, जिंदगी को बरबाद
कर देनेमें कोई कसर नहि छोडेगा ।
विनोद आनंद 22/09/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1580 मनोविज्ञान-1

मनोविज्ञान क्या है ?
मनोविज्ञान का मतलब
है ? मन क्या है ? उस का
काम क्या है ? क्या कर रहा है ?
कैसा है और कैसा होना है,यानी
मन कि मानसिकता क्या है ?
आदमी को मन को जानना है ।
हमारे शरीर के दो हिस्से है ।
स्थूल शरीर और सूक्ष्म शरीर ।
स्थूल शरीर जो दिखता है वो है,
पांच ज्ञानेन्द्रिया-पांच कर्मेन्द्रिया ।
सूक्ष्म शरीर जो नही दिखता वो है
मन,बुध्धि,आत्मा-चैतन्य है,स्थूल
शरीर का नियंत्रण करता है ।
उस में मन ईन्द्रियों का राजा,
काम है इन्द्रियो पे राज करना ।
इन्द्रियाँ राज करती है मन पर ।
मन को गुलाम बना दीया है ।
मन इन्द्रियाँ के वश में है ।
मन बुध्धि को नहि पूछता,
करता है मन मानी, ईन्द्रियों
कि गुलामी करता है ईसलिए
काम क्रोध लोभ मोह मद
मत्सर जैसे दुर्गणो का ढेर
बन के मनुष्य का दुश्मन है ।
मन ईन्द्रियों कि ईच्छाओ
कि पूर्ति बुध्धि के तराजु में
तोलकर नहि करता ।
मन कैसा है, कैसा होना है ?
यानी मन कि मानसिकता है ।
के लिए पढो मनोविज्ञान-2
विनोद आनंद 28/04/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1581 मनोविज्ञान-2

मनोविज्ञान-1 के अनुसंधान में ।
मन कैसा है, कैसा होना है ?
मन कि शक्ति अपार, सहि
दिशा में लगाओ तो जीवन में
होगा विकास वरना विनाश ।
* मन अधोगामी है उसे उर्ध्वगामी
बनाओ तो विकास वरना विनास ।
* मन अति चंचल या अस्थिर है उसे
एकाग्रह या स्थिर बनाना है ।
* मन अशुध्ध और अपवित्र है
उसे सदगुणों से शुध्ध और
पवित्र बनाना है ।
* मन आलसी और भोगविलाशी है,
कर्मयोगी या क्रियाशील बनाना है ।
* मन तुम्हारा दुश्मन बन बैठा है,
मन को दोस्त बनाना है ।
* मन असंयमी और ईन्द्रियो का
गुलाम है उसे बुध्धि के साथ
जोड कर संयमी बनाना है ।
* संयमी मन अच्छा नौकर है ।
असंयमी मन बेवफा राजा है ।
* मन कामचोर और हरामी है,
लगातार काम दिया करो क्यूँ कि
खाली मन दैत्यो का अखाडा है ।
* मन हि बंधन का कारण है, मन हि
मुक्ति का जरीया है । मन कि हारे,
हार या मन का जीते जित ।
मन का असर तन पे और तन
का असर मन पे पडता रहेता है,
ईसलिए मन हमेंशा खुस या
प्रसन्न तो, तन भी रहे स्वस्थ ।
तन स्वस्थ तो मन भी स्वस्थ ।
मन कि सच्चाई जानो, मन को
गुलाम बनाओ वरना आपको वो
गुलाम बनाके छोडेगा ।
विनोद आनंद 28/04/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1473 शेर शायरीयों का गुलदस्ता-78

🌹 शायर
महोबत ईश्क और प्यार ने
बहुतो को शयार बनाया,वरना
शायर बनना आसान नहीं है ।
अगर पहेले से होते शायर तो
उसे कोई महोबत नही करते ।
🌻 अच्छे दिन
चुनाव में चिन्ह कुछ भी हो
मगर अच्छे चरित्र वाले को
वोट देंगे तो अच्छे चरित्र वालों
को हि टिकट मिलेगा चुनाव में
तो अच्छे दिन आएगें जरूर ।
🌺 कैसे समजाए ?
कैसे समजाए ना समज को
कौन है ना समज तुम या मन
मन एक बालक कि भाँति उसे
समजाना है तो धीरज रखो
शांत रहो और सोचते रहो
तरिके समजाने के ।
मन बंदर कि भाँति कैसे
समजाए ? वो बातों से नहिं
लातों से मानेगा, उस के साथ
तो बनना पडेगा कठोर अगर
समजाना है तो, वरना तम्हे वो
समजा के बनाएगा गुलाम ।
ना समज मन को ज्ञान, बुध्धि
और अभ्यास से समजाना
पडेगा तो वो समजेगा ।
विनोद आनंद 28/01/2019
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1363 दिल दिमाग,बुध्धि और मैं

-मैं चैतन्य, एक अदभूत
शक्ति परमात्मा का अंश ।
दिल भावनाओ अगाध सागर
दिमाग विचारो का समुद्र ।
बुध्धि ज्ञान का सागर
निर्णय करने वाली ।
दिल दिमाग जैसे एक माँ
के दो संतान अलग अगल
प्रकृति वाले भाई ।
जिंदगी में एसा भी मौका
आता है दिल ना कहेता है
और दिमाग हा कहेता फिर
भी बुध्धि निर्णय लेती है ।
जिंदगी में एसा भी मौका
आता है दिल हा कहेता है
और दिमाग ना कहेता फिर
भी बुध्धि निर्णय लेती है ।
दिल दिमाग के बीच संधर्ष
होता रहेता है ।
दिमाग दिल से कहेता
भावना में आकर निर्णय
नही लेना ।
दिल दिमाग को कहेता
कि स्वार्थी बनके निर्णय
नही लेना ।
विवेक बुध्धि निर्णय ले
तब भी अंतरात्मा चैतन्य
से सलाह मसहारा से बुध्धि
निर्णय ले वो हि होगा सही
और कल्याणकारी निर्णय ।
विनोद आनंद 03/11/2018
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

1243 तेज दिमाग कैसे बने

दिमाग कि शक्ति है सही,
सकारात्म,शुभ,हितकारी
सर्जनात्मक सोच,उसे दिमाग
सक्रिय और तेज बनता है ।
बुध्धि,अनुभव और जानकारी
से दिमाग तेज बन शकता है ।
उस के लिए जिज्ञासा, जानने
कि तीव्र ईच्छा और विश्र्लेषण
करने कि आदत जरूरी है ।
कुछ अलग सोच ने कि, तलास
और संसोधन करने कि वृति से
दिमाग को तेज बना शकते हो ।
दिमाग को पहेली ,विडीयो गेम,
कूट प्रश्र्नो से और काल्पना
शक्ति से तेज बना शकते हो ।
दिमाग को जीतना विषेश
तरीके से ईस्तमाल करोगे
ईतना वो तेज बनता जाएगा ।
तेज दिमाग समस्या का हल
भी तुरंत निकाल शकता है ।
विनोद आनंद 21/07/2018
फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड