923 Understand the situation

Circumstances create 

situation in house or

society or atmosphere. 

This situation controls 

the mind or heart of the

persons and his life. 

Each person must 

study the situation, 

understand & analyse

than try to control your

self and react right way. 

If you cannot chance the

situation try to accept it. 

Don’t create tension and 

worry due to situation &

feel helpless or helpless. 

It is not greater than man.

Control the situation don’t 

get control by the situation

Understand the situation.  

Vinod Anand                          18/09/2017 Friend,Philosopher,Guide    

Advertisements

857 Control the waste

Waste of any thing

is loss & useless.

Try to control waste

in every field of life.

Waste of the time

is greatest waste.

Minimize the waste

of time by proper

target & planning.

Waste of the food,

money are great loss.

Minimise waste of food

by cooking required

quality of food daily.

In case excess give to

hungry people & animals.

Do not throw such place,

so that It become waste.

In factory also control of

waste of material, money,

time & man power is must.

Try to reuse the wast or

create something best

out of waste to utilise it.

So be conscious and concentrate while 

working for the best

result & less waste,

which is key of success.          Vinod Anand                          25/07/2017 Friend,Philosopher,Guide  

Power of…… 

​Power of love 

greatest of all. 

love is God and 

God is love. 

Power of withdrawal

from any situation. 

not to influence 

by situation. 

Power of let go, 

ignor, accept and

be peaceful. 

Power of tolerate

unconditionally  and 

forgive like mother. 

Power of good will, 

good personality, 

blessing, prayer and soul  . 

Power of control

on senses and mind

is the master power. 

All these are within you, 

have to cultivate to become 

Great personality. 

Vinod Anand                        02/10/2016 Friend,Philosopher,Guide

आदमी वो, जो,,,,

आदमी वो, जो आबाद रहे और
बरबादी से बच के रहे ।
आदमी वो, जो आनंद में रहे,
उदास और हताश न रहे ।
आदमी वो, जो अहिंसा को अपनाए
और हींसा से दूर रहे ।
आदमी वो, जो अहंकारी न हो,
निर्मल और कोमल बने ।
आदमी वो, जो  आवेश मे न रहे
और हंमेशा शांत रहे ।

आदमी वो, जो असत्य से  बचे
और सत्य को अपनाए ।
आदमी वो, जो अनुशासीत रहे,
शिस्त भंग न करे ।
आदमी वो,जो किसी को अपमानीत न करे
सभी का मान सन्मान करना शीखे ।
आदमी वो, जो असंयमी न रहे
और सयंमी बनने की कोशीश करे ।
आदमी वो, जो आदर्शो को अपनाए
झूठी शान दिखावा न करे ।
आदमी वो, जो संसार से अनासक्त रहे
संसार की मोह माया से बचे ।
आदमी वो, जो अवगुणों को छोडे
और सद् गुणों को अपनाए ।
आदमी वो, जो आत्मा को समजे
और परमात्मा से जूडे रहे ।

हमे आदमी बन के रहेना है
तो हमने ऐसा करना होगा,
वर्ना हम क्या से क्या,
बन जाएगें पता नही ।
आदमी वो, जो आदमी बना रहे ।

विनोद आनंद                            24/04/2016
फ्रेन्ड, फिलोसोफर, गाईड

मन कहाँ टीकता है ?

मन कहाँ टीकता है ?
जिसे बहुत प्यार करता है,
जिस की किंमत समज़ता है,
जिस का महत्व समज़ता है,
जिस को ज्यादा मूल्य देता है, 
जो आकर्षण का केन्द है, 
जिस की जरूरत है और
जिसे पाना चाहता है,
मन उस पर टीकता है ।

मन कहाँ टीकता है ?
मन गुस्से पे, चिंता पे,
जिसे धृणा करता है,
जिसे पाना नही चाहता
किस से बदला लेने का सोचता है,
और जिसे छोड़ना चाहता है,
मन उस पर टीकता है ।

मन जहाँ टीक गया, वहाँ टिक जाता है ।
जहाँ टीक जाता है,उसी को बढा देता है ।

सावधान हो जाओ ।
मन को किस पर टीकाना है, और
कहाँ नहीं वो हमारी जिम्मेदारी है ।
उसे के लिए होश, सतर्कता,समज
और ईन्द्रियो-मन पे संयम आवश्यक है ।
वर्ना मन गलत जगह पे टीक जाएगा ।
मन को जिस पर न टीकाना है उस पर
कुछ कक्षणों से ज्यादा न टीकाना ।

विनोद आनंद                            17/04/2016
फ्रेन्ड, फिलोसोफर, गाईड

Balance must

Balance is to weight the things exactly.
So seller and purchaser are happy.

Child balance while leaning walking.
Even other have to balance themself.
While walking, talking and doing.

Keep the balance otherwise problem.
Most needed for man is to keep
the mind balance,
means – stable mind.

Every aspect of life balance is needed.
Balance means keep normal
behaviour irrespective of situation.
Balance situation is ideal situation
for happy and peaceful life.

Ex. Do not eat excess.
Means control over eating.
Keep the balance diet.

In any worst situation or
favorable keep the balance of mind.

Vinod Anand                             04/11/15

सोच

सोच मन की शक्ति
सोच अगर अच्छी तो सोना
जिवन का श्रींगार
जिवन अनमोल ।

सोच अगर बूरी तो पित्तल
जिवन कद्रूप
जिवन कोडीयों के दाम ।

सोच अगर सही तो स्वर्ग
अच्छे कर्मो का मेला
सोच का सद् उपयोग

सोच अगर गलत तो नरक ।
बूरे कर्मो का ढेर
सोच का दूर उपयोग ।

सोच पर अगर नहीं है काबू
तो बूरी और अच्छी दोनों आगेगी
अच्छी सोच मेहमान बन कर
और बूरी सोच रीश्तेदार बन कर आयेगी ।

रोकना है या भगाना है बूरी सोच को
और बनाना है , रीश्तेदार अच्छी सोचो को
यही है सोच पर निगरानी और नियत्रंण ।
और जिवन जीने का सही ढंग ।