816 बहेतरीन तरीका जीने का 

जीने का  बहेतरीन तरीका कौनसा ? 

जीओ और जीने दो, 

हसो और हसाओ

खुस रहो खुस रखो, 

है बहेतरीन तरीका जीने का ।

जीने का  बहेतरीन तरीका कौनसा ? 

न फसो न फसाओ, 

न रोओ न रूलाओ, 

न दु:खी हो न दुःखी करो, 

माफ करो दो, माफि मागीलो, 

प्रेम करो, प्रेम पामो, 

है बहेतरीन तरीका जीने का ।

जीने का  बहेतरीन तरीका कौनसा ? 

मैं ओ.के. तुम भी ओ.के, 

मैं जीतु तुम भी जीतो, 

मैं स्वीकार करू तुम्हे, 

तुम भी स्वीकार करो मुझे ।

मैं सहन करू तुम्हे, 

तुम भी सहन करो मुझे ।

है बहेतरीन तरीका जीने का ।

जीने का  बहेतरीन तरीका कौनसा ? 

मैं न रूठू  तुम्हे से

तुम भी न रूठो मुझसे ।

मैं खुस रखु तुम्हे, 

तुम भी खुस रखो मुझे ।

मैं न शिकायत करू  तुम्हे, 

तुम भी न करो शिकायत मुझे ।   

विनोद आनंद                                20/06/2017     फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

809 दृढ़ता

अपने निर्णय पर, 

अपने लक्ष्य पर, 

हिमालय जैसी दृढ़ता 

दिलाएगी सफलता ।

हर समय,हर परिस्थिति में 

दृढ़ता बनी रहे, अपने निर्णय, 

अपने लक्ष्य से न हो चलित

तो होगा लक्ष्य पूर्ण ।

दृढ़ता सफलता जननी है

दृढ़ता मन कि बेटी है

अगर मन पर संयम हो

जीवन में लक्ष्य हो,संकल्प हो

तो मन में दृढ़ता लेती है जन्म 

आत्म विश्र्वास और बढता है ।

हर वक्त सफलता मिलती है ।

जीवन में सुख शांति और

समृध्धि लाती है दृढ़ता ।

सफलता जडी बुट्टि है दृढ़ता ।                              विनोद आनंद                                   16/06/2017        फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

808 💐 शेर शायरीयों का गुलदस्ता-33

💟 झुकना

जो पहेले झुकता है

वो है विजेता और

बाद में  झुकता है

वो है रनर और

जो झुकता ही नही

वो होता है लुझर

💖 जीत में हार

जीत में हार समाई हुई है 

वो कैसे ? 

जीत कि खुशी में डुबकर

मदहोश हो जाओगे ।

बेध्यान-बेदरकार होकर

बाजी खेलोगे और जीत

नही, मिलेगी हार ।

💙 हार में जीत

हार में जीत समाई है 

वो कैसे ? 

हार को हार नही 

जीत का श्री गणेश है

हार से निराश नही

एक आशा जगाओ

जीत ने कि कोशिश से

तुम्हे मिलेगी जीत ।

हार, जीत कि प्रेराण है ।

सुख-दुख

दु:ख में  सुख देखना

सुख में दु:ख न ढूँढना 

दोनों ही है कर्मो कि देन

और तुम्हारी कमाई है 

चाहे जो भी हो खुस रहो ।                                     विनोद आनंद                                    15/06/2017      फेंन्ड, फिलोसोफर,गाईड

795 💐शेर शायरीयों का गुलदस्ता-30

💙 इतिहास

होंसला आकाश छू शकता है

उमीदे शिखरें सर कर शकती है

जोस उची उडान भर शकती है

होस समुद्र कि गहेराई नाप शकती है

हिंमत हिमालय चठा शकती है

अशा अमर है,अमर बना शकती है ।

सभी मिलकर इतिहास लिख शकते है ।

🌹 स्वाभिमान-अभिमान

अभिमान  कभी उठने नही देगा ।

स्वाभिमान कभी गीरने नही देगा ।

अभिमान को होने नही देना ।

स्वाभिमान को छोडना नही ।

स्वाभिमान ताज पहेनाएगा ।

अभिमान ताज छिन लेगा ।  

💝 ज्ञान होना चाहिए 

कहाँ चूप रहेना, 

कहाँ  बोलना, 

पता होना चाहिए ।

कहाँ शांत रहेना, 

कहाँ गुस्सा करना, 

कहाँ गुस्सा नही करना, 
समजना चाहिए ।           

किसा संग करना

किसका संग नही, 

सोचना चाहिए ।

क्या करना है, 

क्या नही करना है, 

ज्ञान होना चाहिए  ।

विनोद आनंद                                   01/05/2017   फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

  

791 सफल पेरन्ट कौन ? 

सफल पेरन्ट कौन ? 

जिस के बच्चे उनका

मान सन्मान करे, 

वो सफल पेरन्ट ।

जिस के बच्चे घर के

निति नियम और मर्यादा 

का पालन करे, 

वो सफल पेरन्ट ।

जिसे बच्चे सूर्योदय

से पहले उठे, अपने

कार्य में नियमित हो, 

वो सफल पेरन्ट ।

जिस के बच्च अपना

काम खुद करते हो और

घर के कार्य में सहाय करे, 

वो सफल पेरन्ट ।

जिस के बच्चे अभ्यास में 

अव्वल आते हो और

दूसरी प्रवृति करते हो, 

वो सफल पेरन्ट ।

जिस के बच्चें अपने

पेरन्ट के साथ प्रेम से, 

नम्रता से व्यवहार करे, 

वो सफल पेरन्ट ।

जिस के बच्चें अपने

पेरन्ट की आज्ञा का 

पालन करे, 

वो सफल पेरन्ट ।

जिसके बच्चें अपने

पेरन्ट कि आर्थिक

परिस्थिति और उन की

भावनाओं को समजे, 

वो सफल पेरन्ट ।

उतना ही नही जो बच्चे 

एसा करे वो, एक आदर्श 

परिवार कहलाऐ ।

यही सपना हर  पेरन्ट का

होना 
विनोद आनंद                                 28/05/2017   फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

790 लक्ष्य तयर करो

बीना पता और कुछ 

कुछ निशानी दे कर हम 

घर ढूँढते है, मगर 

घर नही मिलता ।

घर ढूँढना है तो पता

पहेले ढूँढना होगा ।

बस ईसी तरह हम

जिंदगी में  मंझिल ढूँढते है 

पर नही मिलती क्यूकिं 

लक्ष्य निर्धारीत नही है

हम लक्ष्य हीन जिंदगी के

सफर में  मंझिल ढूँढते है ।

जिंदगी में क्या बनना है

क्या करना है जिंदगी और

कैसे जीना है तयर नही है ।

तो फिर जिंदगी का कोई

हेतु या उद्देश्य नही होता ।

जिंदगी में  सफलता और

सार्थकता के लिए लक्ष्य 

निर्धारीत करना आवश्यक है ।

लक्ष्य हीन जीवन तो जानवर

जीते है । हम तो ईन्सान है ।

जिंदगी को लक्ष्य हीन न जीओ ।

विनोद आनंद                                 28/05/2017   फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड

789 सफल व्यक्ति कि सोच

सफल व्यक्ति कि सोच

कैसी होती है ? कि 

वो सफल होते है ।

सफल व्यक्ति कि सोच

सकारात्मक होती है ।

नकारात्मक नही ।

सफल व्यक्ति कि सोच

सर्जनात्म होती है ।

सफल व्यक्ति कि सोच

सही होती है गलत नही ।

सफल व्यक्ति कि सोच

आशावादी होती है ।

निराशावादी नही ।

सफल व्यक्ति कि सोच

लक्ष्य के अनुकूल होती है ।

सफल व्यक्ति कि सोच 

आयोजन युक्त होती है ।

सफल व्यक्ति कि सोच

सफलता कि होती है, 

निष्फलता कि नही ।

सफल व्यक्ति कि सोच

विकास कि होती है ।

विनाश कि नहीं ।

सफल व्यक्ति कि सोच

स्पष्ट होती है ।

सफल व्यक्ति कि सोच

संयमी-स्थिर होती है ।

एसी सोच,सफलता का बीज है ।

अपनी सोच एसी बनालो तो

आप सफल व्यक्ति होंगे ।

विनोद आनंद                                 26/05/2017   फ्रेन्ड,फिलोसोफर,गाईड