716 Neighbour Relationship

Neighbours is good relative.

He is near & dear relative.

He is immediate available

& first helpful relative.

So considered he is best

relative among all other.

Be good enough, helpful

& cooperative to Neighbour.

Do not create,

misunderstandings & spoil

the relation with neighbour.

If you are at fault do not

hesitate to say sorry.

If he is at fault forgive him

Do not be so proudly

and selfish with neighbour.

Have pure & frank relation

with neighbour & feel good.

Be good neighbour to

enjoy the life in the absent

of your other own relative

which are not near to you.

Vinod Anand                        27/03/2017   Firend,Philosopher,Guide  

704 Doctor Patient Relation

Doctor Patient Relation

can create miracle.

Doctor well comes patient

with love and smile,

patient get some relief.

Doctor listen patient

careful and ask gentlely

to diagnose disease &

ensure patient to cure it.

Patient get some more relief.

Doctor understand the

patient’s plights  & feeling.

Patient get some more relief.

Then the medicine gives

relief to patient very fast.

Doctor Patient Relation

survive on faith & mercy.

First attempts of doctor

must to built faith & win

the mind & heart of patient.

Doctor should not burden

financial more to patients.

Patient believe that

doctor is second God.

Doctor occupation is

service to human being

is not the business.

If so then no disease

revolts against doctor.

Dedicated to Doctor

with expecting to be

ideal Doctor. Thanks.

Vinod Anand                         20/03/2017  Firend,Philosopher,Guide  

रिश्ते रोते है

रिश्ते रोते है आंशू नही
आहे निकलती है ।
रिश्ते को हसाना है
स्वस्थ, रखा है, निभाना है ।
रिश्ते तूटते है, जूडते नही
रिश्तों को तोड़ना नही है ।
क्यूकि रिश्ते रूह है जिंदगी की ।
रिश्ते बिन जिंदगी जैसे,
जल बिन मछली ।
रिश्तों की हेमीयत समजो
रिश्तों का मान सन्मान करो ।
रिश्ते सेवा, सर्मपण और
स्नहे से खिलते है
जीवन की बगीयाँ को महेकाते है ।
रिश्ते जीवन को सफळ, सार्थक
और समृद्ध बनाते है वरना
जीवन का कोई मोल नही है ।

विनोद आनंद                             19/05/2016
फ्रेन्ड, फिलोसोफर, गाईड

Talk to God

To talk to God
establish the link by relation.
Develop faith and trust. Believe that,
” God is great and super power,
present all the time, everywhere.
God is the creator, God father  and
reside in creatures as a soul. ”
Surrender mind, intelligence,senses.                                                                                              Accept what you get, and be happy.                                                                                          Then you are eligible, to talk
to God through prayer.
Talk to God with respect to.
relation you have established.
Talk to God Daily without fail.
What to talk – First appreciate,
thanks for what you have,
beg pardon for mistake,
misbehavior, ask guidance
and energy for better life etc.
Similarly go on talking with God.
Your can talk your personal
problems, you will get solution.
God is best guide and Guru.

Vinod Anand                          09/04/2016
Friend, Philosopher,Guide

रिश्ते क्या है ?

रिश्तों को गाजर मूली की तरह मत काटो
रिश्ते जीवन संसार की शोभा है,
रिश्ते जीवन की नींव है ।
अगर नींव कमजोर है तो
जीवन लडखाने लगेगा।

रिश्तों को गेर समज से बचाओ,
रिश्तों को खुदगर्जी से दूर रखो,
रिश्तों को अपमानित न करो,
रिश्तों को कटु  वाणी से बचाओ,
रिश्तों को गुस्से की आग में मत जलाओ,
रिश्तों को बेरुखी से बचाओ,
और रिश्तों के पौधों को मुरझाने मत दो ।

रिश्तों की हेमीयत और जरूरत समझो
रिश्तों को सिंचना प्रेम और स्नेह सेे करो,
रिश्तों का मान सन्नमान करो ।

आखिर रिश्ते ही सँवारते है जीवन
रिश्ते ही देते है साथ सहयोग ।
रिश्ते ही जीवन का प्राण है ।
रिश्तों के बीना जीवन लाश है ।
रिश्ते ही जीवन की आन, बान और शान है ।

विनोद आनंद                                   06/12/15

रीश्ते की हेमीयत

रीश्ते बोलते हैं, की
हमे न तोडो  हमे  जोडो और करो मज़बूत ।

रीश्ते सुनते है बुरी भाषा,  प्रेम और समर्पण की,
रीश्ते नहीं सुनते भाषा,  नफरत और स्वार्थ की ।

रीश्ते देखते हैं आँखों में नमी, प्रेम और अपनापन,
रीश्ते नहीं देखते दंभ, द्वेष और ईर्षा ।

रीश्ते चाहते हैं अपनोको और भोलेपन को,
रीश्ते नहीं  चाहते कपटी और धोकबाझ को ।

रीश्ते खिलते है जब कोइ पराया अपना लगे,
रीश्ते मुरझाते है जब कोइ अपना गैर लगे ।

रीश्ते बीना जिवन सूना, सुखा और पतझड,
रीश्ते के संग जिवन सुगंधीत और खीला खीला ।

रीश्तों के तानेबाने से बुना है जिवन
रीश्तों की हेमीयत समझें, निभाए और सँवारे।
रीश्तों के रंग में रंग जाए और घुल मिल जाए,
और  जिंदगो को  सुखी,  शांत और समृद्ध बनाए ।     विनोद आनंद